asian countries News: भारतीय शिक्षिका का चीन में स्ट्रेप्टोकोकल संक्रमण के लिए इलाज – indian teacher treatment for streptococcal infection in china


(के जे एम वर्मा) बीजिंग, 19 जनवरी (भाषा) चीन के शेनजेन शहर में 45 वर्षीय स्कूल शिक्षिका का स्ट्रेप्टोकोकल संक्रमण के लिए इलाज किया जा रहा है। इस संक्रमण को शुरुआत में देश में फैले रहस्यमय एसएआरएस (सार्स) जैसे कोरोनावायरस से संक्रमण का मामला माना जा रहा था। कोरोनावायरस विषाणुओं का एक बड़ा समूह है लेकिन इनमें से छह ही लोगों को संक्रमित करते हैं। इसके सामान्य प्रभावों के चलते सर्दी-जुकाम होता है लेकिन एसएआरएस (सिवीयर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम) ऐसा कोरोनावायरस है जिसके प्रकोप से 2002-03 में चीन और हांगकांग में करीब 650 लोगों की मौत हो गई थी। शेनजेन

डिसक्लेमर: यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।

भाषा | Updated:

NBT

(के जे एम वर्मा) बीजिंग, 19 जनवरी (भाषा) चीन के शेनजेन शहर में 45 वर्षीय स्कूल शिक्षिका का स्ट्रेप्टोकोकल संक्रमण के लिए इलाज किया जा रहा है। इस संक्रमण को शुरुआत में देश में फैले रहस्यमय एसएआरएस (सार्स) जैसे कोरोनावायरस से संक्रमण का मामला माना जा रहा था। कोरोनावायरस विषाणुओं का एक बड़ा समूह है लेकिन इनमें से छह ही लोगों को संक्रमित करते हैं। इसके सामान्य प्रभावों के चलते सर्दी-जुकाम होता है लेकिन एसएआरएस (सिवीयर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम) ऐसा कोरोनावायरस है जिसके प्रकोप से 2002-03 में चीन और हांगकांग में करीब 650 लोगों की मौत हो गई थी। शेनजेन के एक अंतरराष्ट्रीय स्कूल में शिक्षिका प्रीति माहेश्वरी का स्ट्रेप्टोकोकल संक्रमण के लिए इलाज चल रहा है। उनके पति अशुमान खोवाल ने कहा कि माहेश्वरी का सघन निगरानी कक्ष (आईसीयू) में इलाज चल रहा है और वह फिलहाल जीवन रक्षक प्रणाली पर हैं। शुरुआत में ऐसा संदेह था कि माहेश्वरी कोरोनावायरस के नये प्रकार से ग्रस्त हैं। हालांकि, खोवाल ने स्पष्ट किया कि उनकी पत्नी को स्ट्रेप्टोकोकल संक्रमण होने का पता चला है। चीनी शहर वुहान नये रहस्यमय वायरल निमोनिया की चपेट में है। आधिकारिक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, निमोनिया की अस्थायी जांच में इसका कोरोनावायरस से होना सामने आया है। वायरस से चीन में चिंता का माहौल इसके सार्स से संबंधित होने के कारण है। वुहान से मिल रही खबरों के अनुसार 17 नये मामले सामने आए हैं जिसके बाद कुल मामले 62 हो गए हैं। कुछ हफ्तों पहले वुहान से ही इस विषाणु के सामने आने का पता चला था। सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने रविवार को खबर दी कि कुल 19 लोगों का इलाज हो गया है और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है जबकि अन्य को अलग वार्ड में रखा गया है और उनका इलाज किया जा रहा है।हांगकांग के साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने खबर दी कि शेनजेन में फिलहाल दो लोगों को थर्ड पीपल्स अस्पताल के अलग कमरे में रखा गया है। भारत ने चीन के वुहान में निमोनिया के नये प्रकार के प्रकोप के चलते दूसरी मौत होने के बाद शुक्रवार को चीन जाने वाले अपने नागरिकों के लिए एक परामर्श जारी किया था। वुहान में करीब 500 भारतीय मेडिकल छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। भारत की ओर से जारी यात्रा परामर्श में कहा गया, “चीन में नये कोरोनावायरस के संक्रमण का पता चला है। 11 जनवरी, 2020 तक 41 मामलों के सामने आने की पुष्टि हुई है।” जापान और थाईलैंड में यात्रा संबंधी एक-एक मामला सामने आया है। वुहान शहर के विश्वविद्यालयों के मेडिकल कॉलेजों में 500 से ज्यादा भारतीय छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। लेकिन उनमें से ज्यादातर चीनी नववर्ष के लिए छुट्टियां पड़ने पर अपने घरों के लिए रवाना हो गए मालूम होते हैं। यात्रा परामर्श में कहा गया कि इसके लक्षणों में मुख्य तौर पर बुखार आना है और कुछ मरीज सांस लेने में तकलीफ की शिकायत करते हैं। यह विषाणु किस माध्यम से फैल रहा है, यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। हालांकि, अब तक बेहद मामूली साक्ष्य मिले हैं कि यह मनुष्य से मनुष्य में फैल रहा है।

Web Title indian teacher treatment for streptococcal infection in china(News in Hindi from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें



Source link

151 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *