चंडीगढ़ के बाद हिमाचल बना तेल की तस्करी का हब, सरकारी पेंट वाले टैंकरों में आ रहा पेट्रोल

 

पंजाब में तेल की कीमतों में भारी अंतर ने अब चंडीगढ़ के बाद हिमाचल को तेल की तस्करी का हब बना डाला है। हिमाचल के विभिन्न जिलों से अब पंजाब में तेल की तस्करी शुरू हो गई है। हैरानीजनक तथ्य यह है कि तेल की तस्करी सरकारी पेंट वाले टैंकरों में ही हो रही है, जिसके ऊपर कोई अंकुश नहीं लग पा रहा है। पंजाब के पठानकोट से लेकर होशियारपुर, नवांशहर, रोपड़ एवं मोहाली तक हिमाचल से तस्करी कर लाए जा रहे पेट्रोल डीजल के टैंकर पहुंच रहे हैं। तस्करी कर लाए गए पेट्रोल डीजल की सप्लाई सीधे डोर स्टेप कर दी जा रही है, जिसकी वजह से पंजाब के भीतर पेट्रोल पंपों पर बिक्री प्रभावित होने लगी है। खास यह भी है कि दबी जुबान सरकारी तेल कंपनियों के अधिकारी भी हिमाचल से हो रही तेल की तस्करी को स्वीकार तो कर रहे हैं, लेकिन इस पर रोक लगाने के लिए फार्मूला उनके पास भी नहीं है।

पंजाब के कई पेट्रोल पंप संचालकों के पास अपने तेल के टैंकर हैं, जो तेल कंपनियों के रंगों में पेंट हुए हैं और उनके ऊपर तेल कंपनियों के ही नाम लिखे हुए हैं। इस वजह से सीमा पार करते समय पुलिस समेत कोई भी एजेंसी ऐसे टैंकरों को चेक नहीं कर रही है और तेल सीधा फैक्ट्रीज, ट्रांसपोर्टरों एवं स्वीट शॉप्स तक पहुंच रहा है। तेल कंपनियों की तरफ से ही अब पेट्रोल डीजल की होम डिलीवरी भी शुरू की गई है। जिसका फायदा तेल के तस्कर बखूबी उठा रहे हैं। तस्करी कर लाए गए तेल को इन्हीं होम डिलीवरी वाले टैंकरों में लादकर गंतव्य तक पहुंचाया जा रहा है। पेट्रोल पंप डीलर एसोसिएशन पंजाब (पीपीडीएपी) के प्रवक्ता मोंटी गुरमीत सहगल ने कहा कि पेट्रोल डीजल की कीमत में हिमाचल से औसतन 5 रुपए प्रति लीटर तक का अंतर है। यही वजह है कि प्रदेश में तेल की तस्करी शुरू हो गई है।

24 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *