खुर्शीद बोले- छोड़ गए राहुल, भाजपा ने ली चुटकी- कांग्रेस के पास न नेता, न नीति और न ही नीयत

Bjp Sambit Patra targets congress over Salman Khurshids comment on Rahul Gandhi resignation 

राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने और कांग्रेस की वर्तमान स्थिति पर वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सलमान खुर्शीद की टिप्पणी पर भाजपा ने चुटकी ली है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने इस टिप्पणी को आगामी महाराष्ट्र और विधानसभा चुनावों में मतदान से पहले ही कांग्रेस द्वारा ‘अपनी हार स्वीकार लेना’ बताया है। 

भाजपा प्रवक्ता ने सलमान खुर्शीद के बयान वाली खबर के साथ ट्वीट किया है कि कांग्रेस के पास अब न ही नेता है, न नीति है और न ही नीयत बची है। उन्होंने लिखा- खुर्शीद मानते हैं कि राहुल गांधी ‘छोड़ गए’ और सोनिया गांधी सिर्फ ‘फौरी इंतजाम’ देख रही हैं। इसका मतलब है कि कांग्रेस में कोई नेता, नीति और नीयत शेष नहीं है।

मालूम हो कि सलमान खुर्शीद ने अपनी ही पार्टी की आलोचना करते हुए कहा था कि कांग्रेस की जो स्थिति है, उसमें महाराष्ट्र और हरियाणा चुनाव जीतने की संभावना नहीं है। पार्टी संघर्ष के दौर से गुजर रही है और अपना भविष्य तक तय नहीं कर सकती। 

उन्होंने कहा था कि हमारी सबसे बड़ी समस्या यही है कि हमारे नेता (राहुल गांधी) हमें छोड़ कर चले गए। लोकसभा चुनावों में पार्टी की हार के बाद हम एकजुट होकर विश्लेषण नहीं कर पाए हैं कि हमारी हार क्यों हुई है। हमारी सबसे बड़ी समस्या यह है कि हमारे नेता दूर चले गए हैं। उनके जाने के बाद यह एक तरह का खालीपन है।

मैं उनलोगों की तरह नहीं कि मुश्किल में पार्टी छोड़ जाऊं

सलमान खुर्शीद ने कहा कि कांग्रेस एक पार्टी के रूप में जिस स्थिति में आ गई है, उसको लेकर मुझे तकलीफ है, मेरी चिंता है। हालांकि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता और मैं पार्टी भी नहीं छोड़ने जा रहा। उन्होंने कहा कि मैं उन लोगों की तरह नहीं हूं, जिन्हें पार्टी से सब कुछ मिला और जब मुश्किल हालात थे, तो वे पार्टी छोड़ कर चले गए। 

उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था, अपराध जैसे कई मुद्दों पर आज लोगों के बीच असंतुष्टि है और मुझे लगता है कि हम जहां भी चुनाव लड़ेंगे, वहां इन मुद्दों पर हमें लोगों का समर्थन मिलेगा। 

एक न्यूज एजेंसी से बातचीत में पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद ने पार्टी की स्थिति पर चिंता जताते हुए कहा था कि लोकसभा चुनाव में हार के बाद राहुल गांधी के इस्तीफे से संकट बढ़ा है। उनके इस फैसले के कारण पार्टी हार के बाद जरूरी आत्मनिरीक्षण भी नहीं कर पायी। हम विश्लेषण के लिए भी एकजुट नहीं हो सके कि हम लोकसभा चुनाव में क्यों हारे। 

खुर्शीद ने कहा कि पार्टी संघर्ष के ऐसे दौर से गुजर रही है, जिसमें हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में पार्टी के जीतने की संभावना ही नहीं है। कांग्रेस पार्टी की हालत ऐसे स्तर पर पहुंच गई है कि न केवल आगामी विधानसभा चुनावों में बल्कि यह अपना भविष्य तक नहीं तय कर सकती है।

सलमान खुर्शीद ने अपने बयानों पर सफाई दी है।  इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, उनसे जब उस बयान के बारे में पूछा गया जिसमें उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी के पद छोड़ने के कारण पार्टी अब तक हार की समीक्षा नहीं कर पाई है, तो उन्होंने कहा कि ऐसा करने के लिए एक नेतृत्व होना चाहिए, लेकिन दुर्भाग्य से और यह दुखद है कि पार्टी नेतृत्व विहीन हो गई।

उन्होंने कहा कि यह एक विचित्र स्थिति है। हम हार की समीक्षा जितनी जल्दी करें, अच्छा होगा। हमलोग के पास चुनाव में बेहतरीन घोषणापत्र था लेकिन हम लोगों को साथ नहीं ला सके। इसलिए हमें कुछ करना होगा।

उन्होंने कहा कि जो भी हमारी नेता हैं, मैं उन्हें चाहता हूं। मैं अपनी पीड़ा व्यक्त कर रहा हूं ताकि ये कहीं दर्ज हो। अक्तूबर में राज्यों में चुनाव निपटने के बाद ही नए पार्टी अध्यक्ष पर फैसला किया जा सकेगा।

राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने और कांग्रेस की वर्तमान स्थिति पर वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सलमान खुर्शीद की टिप्पणी पर भाजपा ने चुटकी ली है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने इस टिप्पणी को आगामी महाराष्ट्र और विधानसभा चुनावों में मतदान से पहले ही कांग्रेस द्वारा ‘अपनी हार स्वीकार लेना’ बताया है। 

भाजपा प्रवक्ता ने सलमान खुर्शीद के बयान वाली खबर के साथ ट्वीट किया है कि कांग्रेस के पास अब न ही नेता है, न नीति है और न ही नीयत बची है। उन्होंने लिखा- खुर्शीद मानते हैं कि राहुल गांधी ‘छोड़ गए’ और सोनिया गांधी सिर्फ ‘फौरी इंतजाम’ देख रही हैं। इसका मतलब है कि कांग्रेस में कोई नेता, नीति और नीयत शेष नहीं है।

मालूम हो कि सलमान खुर्शीद ने अपनी ही पार्टी की आलोचना करते हुए कहा था कि कांग्रेस की जो स्थिति है, उसमें महाराष्ट्र और हरियाणा चुनाव जीतने की संभावना नहीं है। पार्टी संघर्ष के दौर से गुजर रही है और अपना भविष्य तक तय नहीं कर सकती। 

उन्होंने कहा था कि हमारी सबसे बड़ी समस्या यही है कि हमारे नेता (राहुल गांधी) हमें छोड़ कर चले गए। लोकसभा चुनावों में पार्टी की हार के बाद हम एकजुट होकर विश्लेषण नहीं कर पाए हैं कि हमारी हार क्यों हुई है। हमारी सबसे बड़ी समस्या यह है कि हमारे नेता दूर चले गए हैं। उनके जाने के बाद यह एक तरह का खालीपन है।

मैं उनलोगों की तरह नहीं कि मुश्किल में पार्टी छोड़ जाऊं

सलमान खुर्शीद ने कहा कि कांग्रेस एक पार्टी के रूप में जिस स्थिति में आ गई है, उसको लेकर मुझे तकलीफ है, मेरी चिंता है। हालांकि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता और मैं पार्टी भी नहीं छोड़ने जा रहा। उन्होंने कहा कि मैं उन लोगों की तरह नहीं हूं, जिन्हें पार्टी से सब कुछ मिला और जब मुश्किल हालात थे, तो वे पार्टी छोड़ कर चले गए।

उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था, अपराध जैसे कई मुद्दों पर आज लोगों के बीच असंतुष्टि है और मुझे लगता है कि हम जहां भी चुनाव लड़ेंगे, वहां इन मुद्दों पर हमें लोगों का समर्थन मिलेगा। 

Source link

16 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *