ओसामा बिन लादेन के बेटे हमजा की मौत की लोकेशन को लेकर उठ रहे कई सवाल

हाइलाइट्स
  • हमजा की मौत को लेकर बरकरार संशय पर काफी सवाल भी उठ रहे हैं
  • पाकिस्तान क्षेत्र में अगर उसकी मौत हुई है तो पाकिस्तान के लिए शर्मिंदगी का कारण बन सकती
  • तालिबान के प्रभुत्व वाले अफगानिस्तान में भी हमजा की मौत पर काफी सवाल उठ सकते हैं
  • तालिबान और अमेरिका के बीच अलकायदा को लेकर समझौता हुआ था

वॉशिंगटन

अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने शनिवार को हमजा बिन लादेन के मारे जाने की पुष्टि कर दी है। ओसामा बिन लादेन का बेटा हमजा के मारे जाने का ऐलान करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि अमेरिका की सेना के आंतकरोधी ऑपरेशन में उसकी मौत अफगानिस्तान/ पाकिस्तान क्षेत्र में हो गई। हमजा कहां मारा गया, इसकी निश्चित जानकारी नहीं दी गई और न ही वक्त का सही ऐलान किया गया। नाम प्रकाशित किए बिना सूत्रों के हवाले से न्यू यॉर्क टाइम्स ने जुलाई में हमजा बिन लादेन के मारे जाने की खबर प्रकाशित की थी। खबर के अनुसार हमजा 2017 से 2019 के बीच हुए ऑपरेशन के दौरान मारा गया।

हमजा का कद अलकायदा में लगातार बढ़ रहा था ओसामा बिन लादेन की जीवित 3 पत्नियों में से एक खैरियाह साबर का बेटा हमजा पिछले कुछ वर्षों में अलकायदा में तेजी से आगे बढ़ा था। एबटाबाद में ही अमेरिकी सेना के स्पेशल ऑपरेशन में ओसामा बिन लादेन 2011 में मारा गया था। उस दौरान हमजा की मां खैरियाह भी उसके साथ थीं। बहुत से विशेषज्ञों का कहना है कि अलकायदा में उसका कद लगातार बढ़ रहा था। माना जा रहा था कि जल्द ही वह मौजूदा चीफ अल-जवाहिरी की जगह ले लेगा। यूएन सुरक्षा परिषद ने हमजा को प्रतिबंधित आतंकी संगठन की सूची में डाला था। इस साल मार्च में सऊदी अरब ने उसकी नागरिकता रद्द कर दी थी।

आतंकरोधी अभियान में मारा गया अलकायदा आतंकी हमजा बिन लादेन, ट्रंप ने की पुष्टि

ओसामा का बेटा कहां मरा, अभी तक सस्पेंस

हमजा बिन लादेन की मौत किस जगह पर हुई अभी तक इस पर सस्पेंस है और इस कारण कई सवाल भी उठ रहे हैं। ओसामा बिन लादेन की मौत की जगह और समय का भी ऐलान किया गया था, जबकि उसके बेटे के केस में ऐसा नहीं है। अफगानिस्तान-पाकिस्तान क्षेत्र का अर्थ हो सकता है कि सीमा के आसपास का कोई इलाका हो, जिसके दूरगामी प्रभाव हो सकते हैं। अफगानिस्तान की तरफ हमजा की मौत हुई तो इसका अर्थ है कि वह उस इलाके में था जहां मुख्य तौर पर तालिबान का प्रभुत्व है। कुछ दिन पहले ही तालिबान ने अमेरिका के साथ शांति डील की थी और वार्ता भी चल रही थी। हालांकि, काबुल में एक अमेरिकी सैनिक की मौत के बाद राष्ट्रपति ट्रंप ने वार्ता रद्द करने का ऐलान किया।

अलकायदा को लेकर तालिबान-यूएस में हुआ था समझौता

तालिबान और अमेरिका के बीच अलकायाद को लेकर समझौता हुआ था। समझौते के अनुसार, तालिबान अपने क्षेत्र का प्रयोग अलकायदा को नहीं करने देगा। अगर यह ऑपरेशन अफगानिस्तान की सीमा क्षेत्र के अंदर हुआ है तो यह पाकिस्तान के लिए विश्व पटल पर और शर्मिंदा होने की वजह हो सकती है। पाकिस्तान में ओसामा की मौत पर भी उसकी संप्रभुता को लेकर काफी सवाल उठे थे।

Hamza bin laden is confirmed killed but where exactly raises many questions

Source link

26 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *